Home Motivational Speech POWER OF FOCUS- Short Motivational Story in Hindi

POWER OF FOCUS- Short Motivational Story in Hindi

452
0
SHARE
short motivational story in hindi
short motivational story in hindi

हमारे जीवन में एकाग्रता की शक्ति, जिसे हम POWER OF FOCUS भी कहते है उसका अपना महत्व है। आज के समय में इसकी बेहद कमी देखी जाती है। एकाग्रता सभी के लिए जीवन में अति आवश्यक है। फिर चाहे वो कोई स्टूडेंट हो, व्यापारी हो, ग्रहणी हो, कलाकार हो, कोई भी हो । अपने जीवन में किसी भी काम को लेकर एकाग्र नही है। तो न तो वो अच्छे से उस काम को कर पाएगा और न ही उसे वो परिणाम मिल पाएँगे। जिसकी उसे चाहत होती है।

इसके लिए ज़रूरी है कि हम जो भी काम करे, उसे पूरी निष्टा से पूरा करे। अपने वर्तमान कार्य पर अपना पूरा ध्यान केंद्रित करे। इसी को एक उदाहरण से समझने के लिए हम एक कहानी लेकर आए है। POWER OF FOCUS- Short Motivational Story in Hindi.

motivational kahani

ये कहानी है एक महिला, जो रोज़ मंदिर जाती थी।

उनका रोज़ Daily Routine था, वो मंदिर ज़रूर जाती थी।

वो अपने शहर में रहे या गाँव चली जाये या फिर विदेश, वो रोज़ाना किसी न किसी मंदिर ज़रूर जाती थी।

अपने शहर के जिस मंदिर में वो जाती थी, एक दिन जब वो मंदिर में गई,

तो उसने देखा, काफ़ी कुछ ग़लत हो रहा है, उससे रहा नही गया ।

वो तुरंत पंडित जी के पास गई और बोली।

पंडित जी प्रणाम, मेरी एक समस्या है । उसका समाधान कीजिए ।

पंडित जी ने कहा – बताइए क्या बात हो गई, हमसे कोई ग़लती हो गई,  क्या किसी ने आपको कुछ कह दिया।

तो महिला ने कहा- मुझसे किसी ने कुछ नही कहा, लेकिन मैं यहाँ आकर देखती हूँ।

कि यहाँ चल क्या रहा है। यहाँ सब नाटक चल रहा है।

पंडित जी ने चौंकते हुए पूछा – आख़िर क्या हुआ, थोड़ा साफ़ साफ़ बताइए ।

उस महिला ने कहा- यहाँ जितने लोग आ रहे है। वो यहाँ आकर सिर्फ़ नौटंकी कर रहे है।

क्योंकि वो आधे से ज़्यादा समय मोबाइल चला रहे होते है।

भगवान का विडीओ बना रहे होते है, भगवान की फ़ोटो खिच रहे होते है। मंदिर की फ़ोटो खींच रहे होते है।

भक्ति में तो लीन होती ही नही, वो यहाँ सिर्फ़ दिखावा करने के लिए आते है।

कि हम मंदिर दर्शन करने आए है। कुछ लोग यह गप-शप कर रहे होते है,

कोई बहु की बुराई, कोई सास की बुराई, अपने करियर की बातें, Politics की बातें,

यही सब चल रहा होता है है। यहाँ भक्ति कम होती है और दिखावा ज़्यादा होता है।

महिला अपनी शिकायत किए जा रही थी, पंडित जी ध्यान से सुन रहे थे।

उंनकी बात पूरी होने के बाद,  पंडित जी बोले – एक काम कीजिएगा

कल आपको आपकी सारी समस्या का समाधान मिल जाएगा।

परिवर्तन का नियम Motivational Speech in Hindi

आपको बस दो काम करने है।

पहला काम – आप कल मंदिर पैदल आइएगा, आप किसी साधन या वाहन से मत आना।

दूसरा काम- अपने घर से एक लौटे (जल चढ़ाने वाला बर्तन) में जल भरकर लाइएगा।

पूरा जल से भर लेना, ध्यान रखना उसमें से पानी ज़रा भी गिर न जाए।

मंदिर पहुँचने के बाद, उस लौटे के साथ, आप मंदिर की तीन बार परिक्रमा कर लेना।

उसके बाद मैं आपको आपकी समस्या का समाधान दे दूँगा।

महिला को जो कहा गया था। अगले दिन वैसे ही किया गया।

महिला घर से पैदल मंदिर तक आयी, हाथ में लौटा लिए,

मंदिर की तीन बार परिक्रमा भी की और इस बात का ध्यान भी रखा

कि लौटे में से पानी न गिर जाए। वो भरा हुआ था ।

सब कुछ होने के बाद, वो महिला पंडित जी के पास गई

उन्हें प्रणाम किया, पंडित जी से कहा- मुझे अब बताइए, जैसे आपने कहा था

मैंने वैसे किया, अब मुझे मेरी समस्या का हल बताइए।

क्यों सब लोग नौटंकी करते है। भक्ति को क्यों नही समझते।

अलग सोच अलग पहचान -Motivational Story in Hindi

पंडित जी ने कहा- मेरे कुछ सवालों है उनका पहले जवाब दीजिए।

जब आज आप घर से पैदल मंदिर तक आए,

क्या आज आपने किसी को गप-शप करते देखा,

क्या आज आपने किसी को मोबाइल चलाते, या किसी को नौटंकी करते देखा,

तो महिला ने कहा – नही, आज तो मैंने इतना ध्यान नही दिया।

पंडित जी ने कहा- आज आपका सारा ध्यान लौटे पर था,

जो चीज़ें मैंने बताई थी करने के लिए, उन पर था।

लौटे में से पानी न गिर जाए, उस पर था।

आपको उस लौटे के साथ मंदिर की तीन बार परिक्रमा करनी है, उस पर था।

आपका सारा ध्यान ख़ुद अपनी भक्ति पर था,

आपने सारी शक्ति और भक्ति उस लौटे पर लगा रखी थी।

आपके आसपास की दुनिया आपकी आँखों की समझ से ग़ायब हो गई थी।

इसलिए आप ने आज पाखंड नही देखा। उस महिला की समझ में आ गया

कि पंडित जी क्या समझाना चाहते है।

दुनिया में अगर आप सफलता चाहते हो।

उसके लिए एकाग्रता ही वो चाबी है। जो सफलता के ताले को खोल सकती है।

एकाग्रता सबसे बड़ा मंत्र है।

ये कहानी बताती है यदि आप अपने लक्ष्य पर एकाग्र दृष्टि रखते हो निरंतर प्रयास करते है तो आप बेकार की बातों में पढ़ने से बचकर केवल और केवल अपने लक्ष्य के बारे में सोचो। जीवन का लक्ष्य रखे, उसे निर्धारित करे आप अवश्य उसे पाएँगे ।

और भी पढ़े –

संगत का असर – Short Motivational Story in hindi

परिवर्तन का नियम Motivational Speech in Hindi

डर के आगे जीत है – Moral Story in hindi

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here