Home Motivational Speech Motivational Story in Hindi – Life me mauka baar baar nahi milta

Motivational Story in Hindi – Life me mauka baar baar nahi milta

968
0
SHARE
motivational story in hindi
motivational story in hindi

motivational story in hindi

ज़िंदगी हमें हमेशा नया मौक़ा देती है। आसान शब्दों में उसे कल कहते है।
ये कहानी है सुरेश की। जिसने हाल ही में अपनी पढ़ाई पूरी की थी। पढ़ाई पूरी करने के बाद पार्ट टाइम जॉब कर रहा था।
वो चाहता था कि उसकी लाइफ़ में बहुत सारा पैसा आ जाए। हर इंसान की तरह वो भी चाहता था कि इतना पैसा हो कि वो घूमने के लिए विदेश जाये, अपने माता पिता को विदेश ट्रिप पर भेजे। लेकिन जिस चीज़ की सबसे ज़्यादा ज़रूरत थी पैसा। वही उसके पास नही था।
उसे किसी ने कहा एक काम करो। एक बाबा जी रहते है समुद्र के किनारे। उनसे जाकर एक बार मिलो। हो सकता है वो तुम्हारी समस्या का समाधान कर दे।
सुरेश ने सोचा इतने तरीक़े आज़माये है चलो, बाबा से भी मिल आते है। नया-नया जोश था चला गया। समुद्र के किनारे बाबा का आश्रम था।
सुबह-सुबह वह आश्रम पहुँच गया। बाबा जी के पास गया बोला – बाबा जी मैंने पढ़ाई भी अच्छी तरह से पूरी कर ली है। नौकरी भी कर रहा हू लेकिन मेरी सैलरी इतनी नही है कि मैं अपने सारे सपने पूरे कर सकू, वो पैसा नही है कि अपने शौक़ पूरे कर सकू, मेरी लाइफ़ में ऐश-o-आराम आ जाए, मैं विदेश घूम सकू, सब कुछ कर लू।
बाबा जी ने कहा बड़ा आसान है ज़्यादा मुश्किल नही है। उसकी आँखो में चमक आ गयी। उसने कहा बताओ आख़िर क्या करना है।
बाबा जी ने कहा मेरे साथ-साथ चलो। बाबा जी उसको अपने साथ ले गये। समुद्र के किनारे-किनारे  काफ़ी दूर तक चले गये। वहाँ बहुत सारे पत्थर पड़े हुए थे छोटे-छोटे पत्थर जमा हो रखे थे।
बाबा जी ने कहा – बेटा बस इन्ही पत्थरों से तुम्हारा भाग्य बदलने वाला है। सुरेश ने कहा बाबा जी मुझे समझ नही आया आप कहना क्या चाहते है।
बाबा जी ने कहा-बेटा ये जो पत्थर तुम देख रहे हो। छोटे-छोटे इन पत्थरों में एक नायाब पत्थर है। उस पत्थर को किसी भी धातु से रगड़ोगे तो वो धातु सोने में बदल जाएगी। वो अदभुत पत्थर है।
उस पत्थर को तुम्हें इन सब पत्थरों में से ढूँढ निकलना है। जैसे ही तुम वो पत्थर ढूँढ लोगे तुम्हारा हर काम आसानी से हो जायेगा। सुरेश ने कहा – बाबा जी ये बड़ी अच्छी बात बताई। लेकिन ये इतने सारे पत्थर है इन सब में उस पत्थर को ढूँढना तो काफ़ी मुश्किल भरा काम होगा।
बाबा ने कहा-मैं तुम्हारी इस मुश्किल को भी हल कर देता हू। इसका भी समाधान बताता हू तो बाबा ने कहा-देखो बेटा सारा खेल तापमान का है। तुम्हें इन पत्थरों का तापमान चेक करना है। बहुत सारे पत्थर है जो ठंडे पत्थर है। तुम उन्हें छुओगे तो तुम्हें ठंडा-ठंडा लगेगा। वो इकलोता ऐसा पत्थर है जो गर्म पत्थर है। उस गर्म पत्थर को तुम्हें इन सब में से ढूँढ निकलना है। बाबा जी ये बात बोल कर वापिस अपने आश्रम की तरफ़ चल दिए।
सुरेश ने पूरे दिन पत्थर ढूँढे लेकिन उसे वो गर्म पत्थर नही मिला। फिर उसने एक तरीक़ा सूझा। उसने एक नया काम करना शुरू किया। वह पत्थर उठाता उसका तापमान चेक करता और फ़ौरन उसे समुद्र में फैंक देता।
उसे पता था पहले पढ़े पत्थर कम करने होंगे। तभी वो बाक़ी पत्थरों में से उस नायाब पत्थर को ढूँढ पायेगा। धीरे-धीरे वो रोज़ यही काम करने लगा। पत्थर उठाता फ़ौरन जाँचकर उसे समुद्र में फैंक देता। धीरे-धीरे पत्थर कम होने लगे लेकिन वो पत्थर नही मिल रहा था।
एक दिन सुबह वो फिर वही आया, रोज़ाना की तरह पत्थर उठा रहा था समुद्र में फैंक रहा था। ये उसकी आदत हो गयी थी। पत्थर उठाना समुद्र में फेंकना, उठाना फेंकना। तभी उसने एक पत्थर उठाया और समुद्र में फेंका, जैसे ही फेंका तो एक सेकंड में उसे एहसास हुआ कि ये वो ही गर्म पत्थर था।
जिससे उसकी क़िस्मत बदलने वाली थी। वही गर्म पत्थर जिसकी तलाश में रोज़ाना इतने महीनो से वो यह आ रहा था। वही पत्थर उसने समुद्र में फैंक दिया। ये छोटी सी कहानी हमें जीवन में बहुत बड़ी बात सिखलाती है।
पत्थर का मतलब – मौक़ा जो आपके पास कब आयेगा। आपको मालूम नही है लेकिन आपको उसके लिए हमेशा तैयार रहना होगा। ये जो वक़्त है इसका सही इस्तेमाल बहुत ज़रूरी है।
आशा है आपको ये मोटिवेशनल स्टोरी ज़रूर पसंद आयी होगी। आपको जो भी सुझाव हो आप हमें कॉमेंट करके ज़रूर बताये।
और भी पढ़े :अलग सोच अलग पहचान -Motivational Story in Hindi    

Geeta Quotes in Hindi

डर के आगे जीत है – Moral Story in hindi

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here