Home Motivational Speech Best Morning Motivational Speech in Hindi

Best Morning Motivational Speech in Hindi

631
0
SHARE
morning motivational speech in hindi
morning motivational speech in hindi

Morning Motivational Speech In Hindi 

सुबह का समय हम सभी के जीवन का सबसे महत्वपूर्ण समय होता है।

ये Motivational Speech in Hindi आपको सुबह के महत्वपूर्ण पहलुओ पर आपका ध्यान खिंचतीं है।

जो लोग नही जानते, वह इस स्पीच को पढ़कर जीवन को पूरी तरह से परिवर्तित कर सकते है।

 

 

 

ज़िंदगी और मौत में इतना ही फ़र्क़ है। जागना ज़िंदगी है और नींद एक मौत है।

बेहतर जीना है तो जागना ही होगा। ज़िंदगी को क़रीब से महसूस करना है।

तो जागना ही होगा।

जो आपके पास है यदि उससे आप बेहतर पाना चाहते है।

जो आज आप है और उससे आप बेहतर बनना चाहते है।

तो जागना ही होगा।

अगर आप जीना चाहते है। तो जागना ही होगा।

सुबह 4 से 7 बजे का टाइम, सिर्फ़ आपका है सिर्फ़ आपके लिए है।

 

ये टाइम आपके कैरीअर के लिए है।

ये टाइम आपकी सक्सेस के लिए है।

ये टाइम आपकी हेल्थ के लिए है।

ये टाइम आपकी आत्मा के लिए है।

ये टाइम कुछ कर दिखाने के लिए है।

कब तक नींद में ही सपने देखते रहोगे।

अभी उठो, जागकर अपने सारे सपने सच करके दिखाओ।

 

यदि आपकी सुबह नींद में गुज़रती है। तो आपकी ज़िंदगी भी नींद में गुज़रेगी।

आपकी ज़िंदगी कैसी गुज़रेगी, यह आपकी सुबह तय करेगी

लोग कहते है हम सुबह उठना चाहते है। पर उठ नही पाते।

जब भी आप अलार्म लगाए, एक बार ख़ुद से ज़रूर पूछना

मैं यह अलार्म क्यूँ लगा रहा हूँ। मुझे क्या पाना है ज़िंदगी में।

कई लोग कहते है कि, हमारी नींद भी खुलती है। पर हम फिर सो जाते है।

जब भी सुबह को नींद खुले तो अपने आप से यह कहना।

यदि मैं सोऊँगा तो यह समय, मैं मौत को दूँगा।

यदि मैं उठ गया तो मेरा ये समय, मैं अपनी ज़िंदगी को दूँगा।

 

अपने आप से यह सवाल पूछना,

क्या आप अपना समय ज़िंदगी को देना चाहते है या मौत को।

जब भी सुबह को नींद खुले, तो एक बार ये सवाल ज़रूर पूछना ख़ुद से।

सो कर मैं कौन से सपने सच कर सकता हूँ।

और यदि मैं उठ गया तो मुझे क्या नही मिल सकता।

सुबह के ये तीन घंटो में मैं अपने कितने अधूरे काम पूरे कर सकता हूँ।

मैं सुबह के इन तीन घंटो को ज़िंदगी के सपने सच करने के लिए इस्तेमाल कर सकता हूँ।

अपनी सेहत को बेहतर बनाने के लिए इस्तेमाल कर सकता हूँ।

अपने मन की शांति को पाने के लिए इस्तेमाल कर सकता हूँ।

 

क्या कभी देखा है, सुबह के चार बजे प्रकृति की छटा कैसी होती है।

क्या कभी देखा है, सुबह चार बजे चाँद तारो की रोशनी कैसी होती है।

क्या कभी देखा है, सुबह के चार बजे पेड़ के पत्तों पर जो ओस की बूँदे होती है।

वो कितनी ख़ूबसूरत होती है।

ये तीन घंटे प्रकृति अपनी सुंदरता की चरम सीमा पर होती है।

सुबह का उगता हुआ सूरज कितना सुंदर दिखता है

जब भी सुबह को खोने का ख्याल आए। तो याद रखना कि आप क्या-क्या गँवा रहे है।

जो इंसान अपने बिस्तर की नींद से नही उठ सकता। वो अपनी ज़िंदगी में कैसे उठेगा।

वही इंसान अपने सपनो को पूरा करता है। जो अपनी नींद के सपनो से बाहर आ जाता है।

 

दुनिया के कई Successful लोग, फ़िल्मी सितारे, Business Man सभी मानते है

सुबह का समय हमारी ज़िंदगी का सबसे ख़ास समय होता है।

क्योंकि वो समय हम ख़ुद को Develop करते है। हम ख़ुद को संभालते है।

कई लोगों को शिकायत होती है कि रात को नींद नही आती।

सुबह तो नींद नही खुलती और दिन भर हम जाग नही पाते।

इसका सबसे बड़ा कारण है कि जो आपकी ज़िंदगी का सबसे ख़ूबसूरत समय है।

वो समय आप नींद को दे देते है। वो आप मौत को दे देते है।

एक दिन तो सबको सोना ही है। पर ये जो समय अभी मिला है

 

ये सोने के लिए नही मिला। यह आपको जागने के लिए मिला है।

ये आपको जीने के लिए मिला है।

जिन्होंने भी अपने सपनो को पूरा किया है जिन्होंने भी अपने ज़िंदगी में एक मुक़ाम हासिल किया है।

वो सब भी अपनी ज़िंदगी में जागे और आगे बढ़े

अलग सोच अलग पहचान -Motivational Story in Hindi

जब भी सुबह नींद खुले या अलार्म बजे तो सोने से पहले ख़ुद से एक सवाल ज़रूर पूछना।

कि मैं जीना चाहता हूँ या मैं मरना चाहता हूँ।

यदि आप जीना चाहते है। तो उठे, जागे और देखे कि आपकी ज़िंदगी कितनी ख़ूबसूरत है।

यह प्रकृति कितनी ख़ूबसूरत है। ये तीन घंटे प्रकृति कितनी शांत होती है।

ये समय ध्यान करने के लिये है। ये समय अपनी हेल्थ बनाने के लिए है।

ये समय दुनिया को जीतने के लिए है। जो इंसान ज़िंदगी में जितना चाहता है। उसे जागना ही होगा।

 

माँ के पेट में हम सोकर आए। बचपन हमारा नींद में गुज़र गया।

अभी और कितना सोएँगे। सारी रात नींद में गुज़रती है।

ज़िंदगी यूँ ही सोने में गुज़र रही है। कब कुछ करेंगे अपने लिए।

कई लोग कहते है कि हम कल से करेंगे।

पता है इस कलयुग को कलयुग क्यों कहा जाता है

इस कलयुग शब्द को बहुत लोगों ने कुछ ज़्यादा सीरीयस ले लिया है।

हमेशा कहते है कल करेंगे। वो कल कभी नही आता।

निश्चय करो आज से ही हम अपनी ज़िंदगी को बदल देंगे।

आज ही अपनी सोच को बदलेंगे। ख़ुद को बहाने देना छोड़ देंगे।

मुझसे उठा नही जाता, मुझसे हो नही सकता।

आप सब कुछ कर सकते है।

 

जिस इंसान के ऊपर जुनून सवार हो जाए। वो चाँद तारो को भी छू सकता है।

वो माउंट एवेरेस्ट पर भी चढ़ सकता है। वो सागर की गहराई को माप सकता है।

बस यही जुनून ये जज़्बा अपने आपकी ताक़त है तो उठो और जाग जाओ

अपने सपनो को पूरा करो। ज़िंदगी को जीत कर दिखाओ।

और भी पढ़े :

परिवर्तन का नियम Motivational Speech in Hindi

त्याग में सफलता- Motivational Story in Hindi

संगत का असर – Short Motivational Story in hindi

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here